top of page
खोज करे

माता-पिता अपने बच्चों के साथ इस विषय पर कैसे चर्चा कर सकते हैं


परवरिश वास्तव में एक बड़ी चुनौती है| किसी को अनुशासित करने के अलावा, उसके स्वतंत्र निर्णय लेने में सही संतुलन बनाने की जरूरत होती है| जबकि व्यक्ति को स्नेहमय होने के साथ ही महत्वपूर्ण बातों पर स्पष्ट नियम स्थापित करने चाहिए|


साथी/दोस्तों के बढ़ते दबाव के आगे झुके बिना अपने बच्चों को नशे की लत वाले विषैले पदार्थों से दूर रहने के लिए मनाना मुश्किल हो सकता है| यहां कुछ दिशानिर्देश दिए गए हैं जो इस कठिन कार्य को आसान बना देंगे|


1) एक निश्चित उम्र में, बच्चे शराब पीने का अनुभव करना चाहते है| ऐसा कुछ भी होने से पहले इस विषय पर बच्चों के साथ संवाद शुरू करें| एक बार जब उन्होंने शराब पीना शुरू कर दिया, या इस विषय पर उद्योगजगत का भ्रम और साथियों की बात सुनी, तो वे आपकी बात कम ही सुनेंगे|


2) इस विषय पर समय-समय पर चर्चा करें| शराब उद्योग जगत रोजाना युवाओं पर शराब समर्थक संदेशों की बौछार करता रहता है| ऐसी परिस्थिति मे यह बिलकुल भी संभव नहीं कि बच्चे केवल एक ही बार समझाने से मान जाएंगे|


3) उन्हें प्रश्न पूछने और अपनी आशंकाओं को दूर करने के लिए प्रोत्साहित करें| जब बच्चों पर उनके साथी/दोस्तों का शराब पीने के लिए अधिक दबाव हो उस समय उनसे यह अपेक्षा करना कि वे आपके निर्देशों का आँख मूंदकर पालन करेंगे, बिलकुल भी उचित नही| वे स्वयं को समझाने लगते है की यह नशीला जहर आवश्यक है| ऐसे समय में उनकी हर शंका का समाधान करने के लिए तैयार रहें|

उदाहरण के लिए, युवाओ द्वारा उठाई जाने वाली एक आम आपत्ति यह है कि तनाव से निपटने के लिए इसे कभी-कभार लेने में क्या हर्ज है| ऐसी परिस्थिति मे कुछ चीजें जो आप उन्हे समझा सकते हैं:

  • शराब या कोई भी नशीला पदार्थ लेने से आप कुछ समय के लिए अपना तनाव भूल जाते हैं| पर इससे हल नहीं निकलता| और क्योंकि आप इसे भूल जाते हैं, इस समस्या को अनदेखा करते हैं और तनाव बढ़ता रहता है| साथ ही, शराब पीने के नकारात्मक परिणामों के कारण जीवन में नए-नए तनाव आते रहते हैं|

उदा. एक लड़का जो ब्रेक अप की चोट को भुलाने के लिए शराब पीता है, उससे होने वाले नुकसान को ठीक से नहीं संभाल पाता, और गम भुलाने में काफी समय लगाता है| इसकी तुलना में जो रो कर, चिल्ला कर अपनी भावनाओं का सामना करते है, वे दर्द को जल्दी भुला पाते हैं| इसके अलावा जब वे अपने जीवन को नशे की लत में डुबो देते हैं तो उनका प्रदर्शन भी गिर जाता है और वे दूसरी प्रेमिका खोजने की संभावना भी कम कर देते हैं| हर साल हजारों युवा पुरुष और महिलाएं ब्रेक अप का सामना करते हैं और उससे बाहर निकल कर आगे बढ़ते हैं| लेकिन जो लोग इसलिए शराब का सहारा लेते है, इस परिस्थिति से बाहर निकल आने के लिए उन्हे अधिक समय लगता है|

  • खेल, संगीत, नृत्य, ध्यान, व्यायाम, पेंटिंग, दोस्तों के साथ समय बिताना, ट्रेक पर जाना आदि तनाव को कम और नियंत्रित करने के बेहतरीन तरीके हैं| जब कोई व्यक्ति तनाव दूर करने के लिए शराब का सहारा लेता है, तो उसे लंबे समय तक पछताना पड़ता है| लेकिन जब कोई इसके लिए एक नियोजित दिनचर्या विकसित करता है, तो वह जीवन में काफी कुछ हासील करता है और तुलना मे सुखी हो जाता है| क्या जीवन की चुनौतियों का सामना करने के लिए किसी को शराब या तंबाकू की आवश्यकता वास्तव में समझदारी की निशानी है?

  • जब हम खुद को असहाय महसूस करेंगे वो दौर हम सब के लिए बड़ा कठिन होगा| ऐसे समय मे शराब का सहारा लेने से बेहतर है की हम किसी सलाहकार की मदद ले| माता-पिता के रूप में आप उन्हें आश्वस्त कर सकते हैं कि वे आपके पास आ सकते हैं और जिस भी समस्या का वे सामना कर रहे हैं उसे साझा कर सकते हैं| उनसे वादा कर सकते हैं कि आप समझने की कोशिश करेंगे और बिना किसी निर्णय के समाधान निकालने में मदद करेंगे|

  • जैसा कि ऊपर सेक्शन 1 में बताया गया है, ज्यादातर लोग कभी-कभार नियंत्रण में पीना चाहते हैं| लेकिन लत ही शराब की प्रकृति होने के कारण लोग सही मात्रा और नियंत्रण दोनों खो देते है|


4) उनकी आशंकाओं का समाधान करने के लिए स्वयंम को तैयार करे| इस विषय पर कई ऑनलाइन पुस्तकें और संसाधन उपलब्ध हैं| कुछ ऑनलाइन संसाधनों का उल्लेख नीचे किया गया है:


  • Harmful Use of Alcohol - लोगों को सक्षम बनाने के लिए इस वेबसाइट पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा विभिन्न संसाधनों पर महत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध है|

  • NIAAA - नेशनल इंस्टीट्यूट ऑन अल्कोहोल एब्यूज एंड अल्कोहलिज्म इस यूएसए की वेबसाइट पर काफी जानकारी उपलब्ध है|

  • Parents Empowered - सशक्त अभिभावक(माता-पिता) अभियान की वेबसाइट|

  • Talking to your Kids about Alcohol - बच्चों के साथ उनकी उम्र के आधार पर किस प्रकार चर्चा की जा सकती है उस बारे मे इस आलेख मे बताया गया है|

  • Reasons Why You Shouldn't Drink Alcohol - शराब क्यों नहीं पीनी चाहिए इसके दस कारणों पर इस छोटे से लेख पर चर्चा की गई है|


5) जब मित्र आप पर शराब पीने के लिए दबाव डालते हैं, तो उन्हे विनम्रतासे लेकिन उतनी ही दृढ़ता के साथ मना करने के तरीके पर अपनी एक भूमिका तैयार करे| अगर उन्होंने पहले ही तय कर लिया है कि ऐसी स्थिति में क्या कहना है, तो वे इसे आत्मविश्वास से कह पाएंगे| यहां कुछ कथन दिए गए हैं:


  • "नहीं, धन्यवाद| मैं शराब नहीं पीता|"

  • "नहीं, धन्यवाद| मैं साफ मन से जीवन का आनंद लेने और स्वयं के नियंत्रण में रहने में विश्वास करता हूं|"

  • "नहीं, धन्यवाद| मैंने अपने माता-पिता से वादा किया है कि मैं आज शराब नहीं लूंगा; और मैं किये हुए वादे निभाता हूं|”


6) स्पष्ट नियम निर्धारित करने में संकोच न करें| जीवन में सफलता के लिए निश्चित तोर पर अनुशासन आवश्यक है और जब तक बच्चे वयस्कता तक नहीं पहुंच जाते, तब तक उन पर अनुशासन लगाने की ज़िम्मेदारी माता पिता की है| यदि अच्छी तरह से समझाया जाए तो मनमुटाव की संभावना कम होती है| साथ ही कुछ समय युवाओं के साथ भी बिताएं|


7) सुनिश्चित करें कि वे दिल बहलाने के लिए सही राह चुन रहे हैं| यह चर्चा करना भी महत्वपूर्ण है कि कोई व्यक्ति अच्छे मार्ग से भी मज़े कर सकता है और यही राह उसे अधिक खुश, स्वस्थ और सफल बनाती है|


8) माता-पिता के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे जागरूक हों और अपने बच्चों को कम उम्र में शराब पीने के खतरों के बारे में बताएं| इस संदर्भ मे कुछ जानकारी:


  • संशोधन के अनुसार, जिन बच्चोंने 15 साल की उम्र से पहले शराब पीना शुरू कर दिया उनकी शराब पर निर्भर होने की संभावना 40% थी| इसके विपरीत, जिन लोगों ने 20 साल या उसके बाद शराब पीना शुरू किया, उनमें शराब पर निर्भर होने की जोखिम केवल 10% थी|

  • कम उम्र में शराब पीने से किशोर युवाओं के विकासशील मस्तिष्क को लंबे समय तक क्षति पहुँच सकती है| याददाश्त, सीखने और निर्णय लेने की क्षमता और साथ ही आवेग नियंत्रण में कमी आ सकती है|

  • किशोर युवा शराब पीना शुरू करते है तो उनमे अवसाद, आत्महत्या, अत्यधिक शराब पीना, नशे में गाड़ी चलाना, हिंसा, व्यवहार मे गड़बड़ी ऐसी समस्याए बढ़ जाती है| साथ ही अकादमिक श्रेणी और प्रोफेशनल परफोरमन्स मे गिरावट आती है|


9) उदाहरण देकर समझाया जाए तो, बच्चे जो सुनते हैं उसकी तुलना में वे जो देखते हैं उसका अनुसरण करने की अधिक संभावना होती है| खुद से शराब न पीने में इससे काफी सहायता मिलती है| यदि आप स्वयं छोड़ने में असमर्थ हैं, तो आप सलाहकार की मदद ले सकते हैं| यहां तक कि अगर आप तुरंत छोड़ने में सक्षम नहीं हैं, तो आप कह सकते हैं कि मै इसमे फस गया हूँ लेकिन मै नहीं चाहता की कोई और फसे|

コメント


bottom of page